savan somvar 2022 Live News:सावन के सोलह सोमवार के व्रत का महत्व और पूजा करने की विधि

0
6
savan somvar news zee sewa 2022

भगवान भोलेनाथ जी का सबसे प्रिय महीना सावन माह होता है। इस महीने में जो कोई भक्त भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करता है उसकी सभी मनोकामनाएं भगवान शिव अवश्य पूरी करते है।

कब है सावन का दूसरा सोमवार ?

 

Savan 2022 Zee Sewa

 

सावन का दूसरा सोमवार २५ जुलाई को है। सावन के इस सोमवार को भी शुभ योग बन रहें है। इस लिए अगर आप भगवान शिव और माँ पार्वती जी की पूजा करते हैं तो आपको विशेष लाभ मिलेंग।

सावन में जो लोग व्रत करते हैं उनको शिव मंत्र काजाप जरूर करना चाहिए

savan somvar mantra 2022 zee sewa hindi news

1 ॐ नमः शिवाय।
2 नमो नीलकण्ठाय।
3 ॐ पार्वतीपतये नमः।
4 ॐ ह्रीं ह्रौं नमः शिवाय।
5 ॐ नमो भगवते दक्षिणामूर्त्तये मह्यं मेधा प्रयच्छ स्वाहा।
6 ऊर्ध्व भू फट्।
7 इं क्षं मं औं अं।
8 प्रौं ह्रीं ठः।

क्या हैं सावन सोमवार मैं बेलपत्र चढ़ाने के नियम

शिव आराधना में बेलपत्र को जरूर अर्पित किया जाता हैं क्योंकि भगवान शिव को बेलपत्र बोहत ही प्रिय हैं। अगर अप्प बेलपत्र को चढ़ाने के नियम का पालन करते हैं तो आपकी पूजा सफल मानी जाती हैं ऐसा शास्त्रों मैं लिखा हैं। शिव जी को बेलपत्र चढ़ाते समये धयान रखें की बेलपत्र उल्टा चिकनी सतह वाला भाग से स्पर्श कराया जाये और फिर चढ़ाया जाये।

बेलपत्र को अर्पित करते समये ध्यान दे की आप हमेशा अनामिका,अंगूठे और मध्यमा अंगुली की मदद से चढ़ाए।

बेलपत्र के साथ साथ जल की धरा जरूर चढ़ाये।

भगवान शिव को कभी भी कटी फटी पत्तियां ना चढ़ाये।

चतुर्थी,अष्टमी,नवमी,चतुर्दशी और अमावस्या को,संक्रांति के समय और सोमवार को बेल पत्र नहीं तोड़ना चाहिए इन तिथियों पर बेलपत्र तोडना वर्जित होता हैं।

पहले से चढ़ाया हुआ बेलपत्र भी दुबारा धो कर चढ़ा सकते हैं बेलपत्र कभी अशुद्ध नहीं होता।

savan somvar news zee sewa 2022

शिव चालीसा:

॥ दोहा ॥

जय गणेश गिरिजा सुवन,मंगल मूल सुजान।
कहत अयोध्यादास तुम,देहु अभय वरदान॥

॥ चौपाई ॥

जय गिरिजा पति दीन दयाला।सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
भाल चन्द्रमा सोहत नीके।कानन कुण्डल नागफनी के॥

अंग गौर शिर गंग बहाये।मुण्डमाल तन क्षार लगाए॥
वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे।छवि को देखि नाग मन मोहे॥

मैना मातु की हवे दुलारी।बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥
कर त्रिशूल सोहत छवि भारी।करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे।सागर मध्य कमल हैं जैसे॥
कार्तिक श्याम और गणराऊ।या छवि को कहि जात न काऊ॥

देवन जबहीं जाय पुकारा।तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥
किया उपद्रव तारक भारी।देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥

तुरत षडानन आप पठायउ।लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥
आप जलंधर असुर संहारा।सुयश तुम्हार विदित संसारा॥

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई।सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥
किया तपहिं भागीरथ भारी।पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी॥

दानिन महँ तुम सम कोउ नाहीं।सेवक स्तुति करत सदाहीं॥
वेद माहि महिमा तुम गाई।अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥

प्रकटी उदधि मंथन में ज्वाला।जरत सुरासुर भए विहाला॥
कीन्ही दया तहं करी सहाई।नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥

पूजन रामचन्द्र जब कीन्हा।जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥
सहस कमल में हो रहे धारी।कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥

एक कमल प्रभु राखेउ जोई।कमल नयन पूजन चहं सोई॥
कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर।भए प्रसन्न दिए इच्छित वर॥

जय जय जय अनन्त अविनाशी।करत कृपा सब के घटवासी॥
दुष्ट सकल नित मोहि सतावै।भ्रमत रहौं मोहि चैन न आवै॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो।येहि अवसर मोहि आन उबारो॥
लै त्रिशूल शत्रुन को मारो।संकट ते मोहि आन उबारो॥

मात-पिता भ्राता सब होई।संकट में पूछत नहिं कोई॥
स्वामी एक है आस तुम्हारी।आय हरहु मम संकट भारी॥

धन निर्धन को देत सदा हीं।जो कोई जांचे सो फल पाहीं॥
अस्तुति केहि विधि करैं तुम्हारी।क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥

शंकर हो संकट के नाशन।मंगल कारण विघ्न विनाशन॥
योगी यति मुनि ध्यान लगावैं।शारद नारद शीश नवावैं॥

नमो नमो जय नमः शिवाय।सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥
जो यह पाठ करे मन लाई।ता पर होत है शम्भु सहाई॥

ॠनियां जो कोई हो अधिकारी।पाठ करे सो पावन हारी॥
पुत्र होन कर इच्छा जोई।निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे।ध्यान पूर्वक होम करावे॥
त्रयोदशी व्रत करै हमेशा।ताके तन नहीं रहै कलेशा॥

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे।शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥
जन्म जन्म के पाप नसावे।अन्त धाम शिवपुर में पावे॥
कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी।जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥

॥ दोहा ॥

नित्त नेम उठि प्रातः ही,पाठ करो चालीसा।
तुम मेरी मनोकामना,पूर्ण करो जगदीश॥

मगसिर छठि हेमन्त ॠतु,संवत चौसठ जान।
स्तुति चालीसा शिवहि,पूर्ण कीन कल्याण॥